adsense

January 02, 2008

बैंक ऑफ इंडिया में है दम

boi देश का प्रमुख सरकारी बैंकों में से एक बैंक ऑफ इंडिया क्‍वॉलिफाइड इंस्‍टीटयूशनल प्‍लेसमेंट यानी क्‍यूआईपी के माध्‍यम से 1300-1400 करोड़ रुपए जुटाएगा। इस कदम के बाद इस बैंक का पूंजी पर्याप्‍तता अनुपात सितंबर 2007 के 12.5 फीसदी से बढ़कर 13 फीसदी से अधिक हो जाएगा। बैंक  बेस द्धितीय की शर्तों के मुताबिक पूंजी बढ़ा रहा है। साथ ही क्रेडिट में विस्‍तार और नए कारोबार मसलन जीवन बीमा संयुक्‍त उद्यम में उतरने की तैयारी कर रहा है। बैंक की टियर प्रथम कैपिटल 7.08 फीसदी के मुकाबले बढ़कर आठ फीसदी से ज्‍यादा हो जाएगी।

बैंक ऑफ इंडिया में सरकार की भागीदारी 69.47 फीसदी है जो इस इश्‍यू के बाद घटकर 64.47 फीसदी आ जाएगी। बैंक ने इस बात के संकेत दिए हैं कि अगले दो साल तक उसका इरादा अपनी और इक्विटी वितरण का नहीं है। बैंक ऑफ इंडिया पिछले कुछ साल से तेजी से विकास के रास्‍ते पर बढ़ रहा है। वित्‍त वर्ष 2004 से वर्ष 2007 के बीच इसकी कंसोलिडेटेड जमाओं और एडवांस में 19 फीसदी और 23 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। वित्‍त वर्ष 2008 की पहली छमाही में इसकी जमा में 25.5 फीसदी एवं एडवांस में 27.6 फीसदी का इजाफा हुआ है।

बैंक ऑफ इंडिया की शुद्ध ब्‍याज आय में वित्‍त वर्ष 2008 की दूसरी तिमाही में 16 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और यह 986 करोड़ रुपए पहुंच गई। जबकि, शुद्ध ब्‍याज मार्जिन में मुश्किल से पांच बेसिस अंक यानी 3.04 फीसदी की कमी आई है। बैंक के कामकाज की स्थिति को देखें तो इसकी साख यानी क्रेडिट और जमाओं दोनों में 26-27 फीसदी की बढ़ोतरी दिखाई दे रही है। इस बैंक की देश भर में 2640 से ज्‍यादा शाखाएं हैं। इनमें 93 विशेष शाखाएं शामिल हैं। शुद्ध नॉन परफोर्मिंग एसेट यानी नेट एनपीए सितंबर 2006 के 1.27 फीसदी से कम होकर सितंबर 2007 में 0.75 फीसदी आ गई। वित्‍त वर्ष 2008 की पहली तिमाही में राजस्‍व 2727 करोड़ रुपए और शुद्ध लाभ 315 करोड़ रुपए रहा, जो दूसरी तिमाही में बढ़कर 425 करोड़ रुपए पहुंच गया। जबकि दूसरी तिमाही में राजस्‍व 2975 करोड़ रुपए थी।

इस बैंक के कार्य प्रदर्शन को देखते हुए निवेशकों ने इसमें काफी रुचि दिखाई। पिछले एक वर्ष में इसके शेयर का दाम 76 फीसदी बढ़ा, जबकि बीएसई सेंसेक्‍स में 45 फीसदी और बैंक्‍स में 61 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। बैंक ऑफ इंडिया में सरकार की शेयरधारिता 69.47 फीसदी है, जबकि आम जनता के पास केवल 7.06 फीसदी शेयर हैं। विदेशी संस्‍थागत एवं दूसरे निवेशकों के पास 23.47 फीसदी शेयर हैं। बाजार पूंजीकरण 17817 करोड़ रुपए है। बैंक ऑफ इंडिया का शेयर 2 जनवरी 2008 को 383 रुपए पर बंद हुआ। जबकि पिछले 52 सप्‍ताह में इसका नीचला भाव 132 रुपए और उच्‍चतम भाव 416 रुपए था। बैंक ऑफ इंडिया के कार्य प्रदर्शन को देखते हुए निकट भविष्‍य में इसके शेयर का दाम 460 रुपए तक जाने के मजबूत आसार हैं।

1 comment:

Vinod Kumar Purohit said...

सही है कमलजी। इस साल बैंकिंग सेक्टर में तो उफान ही रहने की संभावना है। बैंकिंग सेक्टर की शल्यक्रिया करने में आपने बहुत मेहनत की है। साधुवाद।