adsense

August 30, 2015

सोने-चांदी में निचले स्तरों पर करें खरीददारी

इंदौर। सोने-चांदी की कीमतों में पिछले कारोबारी सप्ताह के दौरान काफी उठापटक देखने को मिली ।जिसकी वजह से लगातार दो सप्ताह से चली आ रही बढ़त थम गई और सोना-चांदी गिरावट के साथ बंद हुए। सोने-चांदी में गिरावट का मुख्य कारण शेयर बाजार एवं भारतीय रुपए में आई हल्की रिकवरी माना जा रहा है ।
लेकिन शेयर बाजार के लिए खराब आर्थिक संकेतों की वजह से अभी ओवरआल सेंटीमेंट नकारात्मक बने हुए हैं। ऐसे में सोने-चांदी की कीमतों में निचले स्तरों से खरीददारी करना निवेशकों लिए बेहतर विकल्प साबित होगा । कमोडिटी एक्सचेंज एमसीएक्स में गत सप्ताह अक्टूबर वायदा सोना 616 रुपए (2.26 फीसदी) की साप्ताहिक गिरावट के साथ 26623 रुपए प्रति दस ग्राम पर बंद हुआ । वहीं दिसंबर वायदा चांदी में1952 रुपए (5.27 फीसदी) की साप्ताहिक गिरावट देखी गई और यह 35089 रुपए प्रति किलोग्राम पर बंद हुई ।
स्थानीय हाजिर बाजार में शनिवार को 24 कैरेट सोना 26800 रुपए प्रति दस ग्राम और चांदी 34500 रुपए प्रति किलोग्राम पर कारोबार कर रही थी। अंतरराष्‍ट्रीय  बाजार में सोने में 27.13 डॉलर (2.34 फीसदी) एवं चांदी में 0.71 डॉलर ( 4.64 फीसदी) की साप्ताहिक गिरावट देखी गई । दोनों क्रमशः 1133.10 एवं 14.58 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुए ।
टेक्निकल : स्‍वस्तिक इनवेस्‍टमार्ट, इंदौर के वरिष्‍ठ कमोडिटी विश्‍लेषक अमित खरे का कहना है कि सोने-चांदी के टेक्निकल चार्ट पर अभी भी तेजी देखी जा रही । निवेशकों को रुपए की चाल एवं महत्वपूर्ण टेक्निकल स्तरों को ध्यान में रखकर ट्रेड करना चाहिए । एमसीएक्स में अक्टूबर वायदा सोने के लिए 26810/27100 रुपए के ऊपरी स्तर महत्वपूर्ण रेजिस्टेंस का काम करेंगे । वहीं 26380/26100 रुपए के निचले स्तर सोने के लिए इस सप्ताह सपोर्ट का काम करेंगे । इसी प्रकार दिसंबर वायदा चांदी के लिए 35550/36000 रुपए के ऊपरी स्तर निकटतम रेजिस्टेंस रहेंगे । दूसरी तरफ 34650/34000 रुपए के निचले स्तर चांदी के लिए इस सप्ताह सपोर्ट का काम करेंगे ।
इस सप्ताह के मुख्य घटक : इस सप्ताह अमरीका के महत्वपूर्ण आर्थिक आंकड़ों पर भी निवेशकों को नजर रखनी चाहिए। जिनमें बुधवार के एडीपी नॉन फार्म एम्प्लॉयमेंट चेंज, गुरुवार के अनएम्प्लॉयमेंट क्लैम, ट्रेड बैलेंस एवं यूरोपियन सेन्ट्रल बैंक की मीटिंग और शुक्रवार के मंथली पैरोल के आंकड़े प्रमुख हैं ।

No comments: