adsense

March 22, 2007

बड़ा ही तेज चैनल है यह...


मीडिया कंपनियों के शेयरों में इन दिनों निवेशकों का क्रेज देखा जा रहा है और यह क्रेज जल्‍दी खत्‍म भी नहीं होगा। टीवी 18 समूह, एनडीटीवी, जी, सन टीवी सहित सभी सूचीबद्ध मीडिया समूहों ने निवेशकों को जो खासा रिटर्न दिया है, उसके बाद निवेशक यही देख रहे हैं कि सबसे सस्‍ता और बेहतर मीडिया स्‍टॉक कौन सा है। कुछ ऐसे समूह भी हैं जो शेयर बाजारों में तो सूचीबद्ध नहीं है, लेकिन वहां भी बड़ी मात्रा में विदेशी पूंजी आ रही है जिससे आने वाले दिनों में यह तो तय है कि मीडिया कंपनियों में किया गया निवेश फायदेमंद रहेगा। इन मीडिया समूहों के बीच यदि बात की जाए टीवी टूडे नेटवर्क लिमिटेड यानी आज तक चैनल कंपनी की तो बात ही क्‍या। देश का नंबर वन चैनल लंबे समय से। टीआरपी में पटखनी देने के प्रयास विफल रहे आज तक के सामने। टीवी टूडे नेटवर्क इस समय चार समाचार चैनल आज तक, हैडलाइंस टूडे, तेज और दिल्‍ली आज तक चला रही है। टीवी टूडे का हिंदी व अंग्रेजी समाचारों के बाजार में हिस्‍सा है 25 फीसदी। हिंदी समाचारों के बाजार की बात करें तो आज तक और तेज का 30 फीसदी बाजार पर कब्‍जा है। अभी ये चारों चैनल फ्री टू एयर हैं। आज तक चौबीस घंटे न्‍यूज परोसने में सभी दूसरे चैनलों से आगे है और देश के 90 फीसदी घरों में इसे देखा जाता है। हैडलाइंस टूडे को देश के 60 फीसदी घरों में देखने का दावा किया जाता हे। तेज भी 24 घंटे का हिंदी समाचार चैनल है और जो लोग जल्‍दबाजी में न्‍यूज देखना चाहते हैं उनके लिए बेस्‍ट। कंपनी कहती है कि इस चैनल ने भारत के 50 फीसदी घरों में अपनी जगह बना ली है। दिल्‍ली आज तक दिल्‍ली व एनसीआर क्षेत्र के लिए है। टीवी टूडे मानती है कि हिंदी चैनलों को अंग्रेजी समाचार चैनलों से ज्‍यादा विज्ञापन मिलेंगे क्‍योंकि हिंदी समाचार चैनलों की दृशक संख्‍या अंग्रेजी समाचार चैनलों की तुलना में तीन से चार गुना ज्‍यादा है। साथ ही अंग्रेजी चैनल देखने वाले 80 फीसदी दृशक हिंदी समाचार चैनल जरुर देखते हैं। मनोरंजन चैनलों की तुलना में समाचार चैनल देखने वालों की संख्‍या तेजी से बढ़ रही है। यहां मेरी एक टिप्‍पणी संख्‍या बढ़ेगी क्‍यों नहीं जब‍ अपराध, भूत बंगला, हंसी के गुब्‍बारे, योग और ज्‍योतिष, खाना खजाना, सास, बहू और साजिश पता नहीं क्‍या क्‍या जब एक ही चैनल पर आने लगे तो रिमोट कौन काम में ले। खैर! टीवी टूडे को कनाडा में पे चैनल का लाइसेंस मिल गया है और यह अमरीका में पिछले 15 महीनों से समाचार वितरण कर रही है। कुल कमाई में अमरीका से मिलने वाली आय का दो फीसदी हिस्‍सा है। अब कंपनी मध्‍य पूर्व और यूरोप में अगले तीन महीनों में अपने समाचार परोसेगी। टीवी टूडे की योजना कुछ और चैनल खोलने की है लेकिन अगले 12 महीनों तक कोई नया चैनल लांच नहीं करेगी और मौजूदा चैनल पर ही ध्‍यान देगी। कंपनी ने अप्रैल से दिसंबर 2006 यानी चालू वित्‍त वर्ष के पहले नौ महीनों में 130 करोड़ रूपए की शुद्ध कमाई की जिस पर शुद्ध मुनाफा हुआ 19 करोड़ रूपए। प्रति शेयर कमाई यानी ईपीएस रही 3.24 रुपए।

2 comments:

Anonymous said...

accha hai, aaj tak kabhi kal tak nahin ho payega.

lekin ek shikayat hai maldar doosre photo lagye ja sakte hain, aur bhi jyada maldar logon ke photo milenge.

My Himachal said...

sahi kaha!