adsense

May 20, 2007

नया इतिहास लिखने के मूड में इंडेक्‍स

भारतीय शेयर बाजार का इंडेक्‍स अब नया इतिहास लिखने के मूड में है। 21 से 25 मई के दौरान यदि बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज यानी बीएसई का सेंसेक्‍स 14560 अंक से ऊपर बंद होता है तो यह 14715 अंक तक देखने को मिलेगा। शेयर बाजार में करेक्‍शन यानी गिरावट की उम्‍मीद पाले अनेक निवेशक ही नहीं ऑपरेटर और पंटर तक पिछले दिनों बढ़े दो हजार अंक की गर्मी का मजा नहीं ले सके। जबकि, अर्थव्‍यवस्‍था के आंकड़ों और बाजार के मूड को भांपने में विफल रहने वाले ही इस लाभ में भागीदार नहीं बन सके। यहां हम एक बात बताना चाहेंगे कि बड़े बड़े निवेशक, ऑपरेटर और निवेश कंपनियां मनोवैज्ञानिकों के अपने यहां इसलिए रखती हैं कि आम आदमी के मन और मस्तिषक का अध्‍ययन किया जा सके और इसी आधार पर तेजी मंदी का खेल खेला जाता है। जब लोग यह आश्‍वस्‍त हो जाते हैं कि अब मंदी या करेक्‍शन आना तय है तो यह नहीं आएगा। बड़े खिलाड़ी हमेशा विपरीत दिशा में नाव खेते हैं, तभी तो उनके जहाज धन से भरे रहते हैं और वे लोग खाली घूमते हैं जो मास सायक्‍लोजी नहीं पढ़ पाते। शेयर बाजार में सफल होने का यही पहला और आखिरी मंत्र है कि आप मास सायक्‍लोजी पढ़ना जानते हैं या नहीं। खैर! इस विषय पर हम फिर कभी गहराई से चर्चा करेंगे उन उदाहरणों के साथ जो इसी पर आधारित है और बाजार में होने वाले हर मूवमेंट में इनका हाथ रहा है। देश की सभी प्रमुख कंपनियों के नतीजे आ चुके हैं और यह कारक शेयर बाजार के लिए लगभग पूरा हो चुका है। केरल राज्‍य में 24 मई को मानसून दस्‍तक देने जा रहा है यानी अगले सप्‍ताह से शेयर बाजार की चाल मानसून के साथ चलेगी। यह मानसून अपने तय समय से एक सप्‍ताह पहले आ रहा है, जो शेयर बाजार के खिलाडि़यों और निवेशकों के लिए अच्‍छा है अन्‍यथा हर साल मई महीने में बड़े बड़े खिलाड़ी कांपते रहते हैं क्‍योंकि इतिहास गवाह है कि मई महीना शेयर बाजार के लिए बुरा महीना माना जाता है। यद्यपि 28 मई से जो नया सप्‍ताह शुरू होगा उसमें एफ एंड ओ का सैटलमेंट होगा, उस समय संभवत: बाजार में कुछ उल्‍टी स्थिति बन सकती है, लेकिन इस पर हम चर्चा करेंगे बाजार की अगली चाल देखने के बाद। अगले हफ्ते इंडेक्‍स कंपनियों के अलावा इंजीनियरिंग, ऑटो एनसीलियरी, बैंकिंग, हाउसिंग, फार्मा कंपनियों के शेयरों में चमक दिखाई देगी। म्‍युच्‍युअल फंडों के साथ हाई नेटवर्थ निवेशक, ऑपरेटर मिड कैप और स्‍मॉल कैप वाली बेहतर कंपनियों के शेयर जमा करते हुए मिलेंगे। यहां हम आपको एक बात सावधानी के बतौर कहना चाहेंगे कि यदि आप किसी ऐसी कंपनी के शेयरों में लंबे समय से फंसे हुए हैं, जिसका ट्रेक रिकॉर्ड अच्‍छा नहीं है, तो आने वाले समय में इन स्‍टॉक से पूरी तरह निकल जाए और बेहतर ट्रेक रिकॉर्ड वाली कंपनियों खासकर बिजली, बिजली उपकरण, बैंकिंग, इंजीनियरिंग, रियालटी क्षेत्र की कंपनियों में अपने निवेश को बढ़ाएं। अगले सप्‍ताह फ्रंट रनर में रिलायंस इंडस्‍ट्रीज, रिलायंस कम्‍युनिकेशन, एचडीएफसी, पंजाब नेशनल बैंक, सेल, एल एंड टी, बीपीसीएल, रहेंगे। ये हैं हमारे अगले हीरो : डिश टीवी, सिनेमैक्‍स, कर्नाटक बैंक, फैडरल बैंक, ज्‍योति स्‍ट्रक्‍चर, पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन, कार्बोरेंडम यूनिवर्सल, फिलिप्‍स कार्बन ब्‍लैक, एगिस लॉजेस्टिक, ग्रीन प्‍लाई, गोदावरी पावर।

1 comment:

परमजीत बाली said...

भारतीय शेयर बाजार की सारगर्भित जानकरी है।बधाई।