adsense

July 05, 2007

वन टू का फोर, फोर टू का वन


शेयर बाजार में निकट भविष्‍य में बढ़ने वाले तीन ऐसे शेयर जिनमें आप आंख मूंदकर पैसा लगा सकते हैं जो आपके निवेश को हमेशा सुरक्षित रखेंगे। हालांकि, इन तीन कंपनियों में बढ़त धीमी लग सकती है लेकिन होगी ठोस और सुरक्षित। ये कंपनियां हैं: एनटीपीसी, पावर फाइनेंस कार्पोरेशन यानी पीएफसी और पीटीसी इंडिया।

दूर रहें: शेयर बाजार में मौजूदा तेजी में बेहतर, अच्‍छी और घटिया यानी कचरा कंपनियों के शेयरों में खूब तेजी देखी जा रही है। कुछ कंपनियों को ऑपरेटर चला रहे हैं तो कुछ को उनके प्रमोटर या निदेशक। याद रखें रेसकार्स में पैसा घोड़ों पर लगाया जाता है न कि खच्‍चर या गधों पर। अपनी मेहनत के पैसे को बेहतर कंपनियां जिनके फंडामेंटल्‍स खूब मजबूत हैं और आप उसे खुद ट्रेक कर सकें, में ही निवेश करें। केवल सर्किट टू सर्किट चलें उनमें पैसा लगाकर देखा जाए कि थ्‍योरी पर निवेश न करे। मसलन : टूरिज्‍म फाइनेंस कार्पोरेशन ऑफ इंडिया को लें जिसमें पिछले कुछ दिन से पांच फीसदी ऊपर का सर्किट लग रहा है और किसी ब्रोकर हाउस का कहना था कि यह 30 रुपए पहुंच जाएगा, बस पैसा डाल दो। दूसरा उदाहरण : जयंत एग्रो का है। एक शेयर पर एक शेयर बोनस देने के कोई साल भर बाद यह कंपनी उस लेवल पर पहुंची हैं, जहां इसने बोनस बांटा था। बाजार की मौजूदा तेजी यदि शांत होती है तो फिर आप नहीं कह सकते कि इस तरह के शेयर वापस कहां मिलेंगे। तीसरा उदाहरण: खूब मजबूत कंपनी डाबर इंडिया का। दो शेयर पर एक बोनस शेयर देने को काफी समय बीत जाने के बाद अब भी इसमें करंट को निवेशक तरस रहे हैं। ये हमने कुछ उदाहरण रखे हैं। यदि हरेक कंपनी पर हम चर्चा करें तो यह कभी पूरी नहीं होगी।

हम भी खड़े हैं राहों में : भारतीय शेयर बाजार में जितनी कंपनियां सूचीबद्ध हैं, उन सभी पर यहां चर्चा कर पाना और उनके कामकाज एवं हर हलचल पर निगरानी रख पाना किसी के बूते की बात नहीं है।‍ फिर भी हम यहां आपको चंद कंपनियों के नाम बता रहें हैं जिनमें आप किसी भी लेवल पर निवेश कर सकते हैं। मध्‍यम से छोटे कद की ये कंपनियां हैं : बारटोनिक्‍स, सिनेमैक्‍स, सीएट, जेके लक्ष्‍मी सीमेंट, मंगलम सीमेंट, ज्‍युपिटर बायोसाइंस, गुजरात अपोलो इक्विपमेंट, बॉम्‍बे रेयान, पेराडाइन इंफोटेक, विशाल रिटेल, ओरिएंट पेपर, जेबीएफ इंडस्‍ट्रीज, रैन कमोडिटीज, फर्स्‍ट सोर्स साल्‍यूशंस, यस बैंक, आईडीबीआई, आईडीएफसी, ज्‍योति स्‍ट्रक्‍चर, डीसीबी, सेंचुरी एंका, आइडिया सेलुलर, रिलायंस कम्‍युनिकेशन, टाटा पावर, टाटा कैमिकल, एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस, जीआईसी हाउसिंग फाइनेंस, वरुण शीपिंग आदि आदि। निवेश लायक अन्‍य ढ़ेरों कंपनियों पर हम समय समय पर चर्चा करते रहेंगे और उनमें निवेश कर लाभ कमाते रहें, यही हमारी शुभकामनाएं।

3 comments:

Raviratlami said...

"..दूर रहें: शेयर बाजार में मौजूदा तेजी में बेहतर, अच्‍छी और घटिया यानी कचरा कंपनियों के शेयरों में खूब तेजी देखी जा रही है। कुछ कंपनियों को ऑपरेटर चला रहे हैं तो कुछ को उनके प्रमोटर या निदेशक। याद रखें रेसकार्स में पैसा घोड़ों पर लगाया जाता है न कि खच्‍चर या गधों पर।.."

ये आपने बहुत सही संकेत दिया. परंतु आमतौर पर एक आम आदमी जिसकी जानकारी थोड़ी सी कम होती है - वो गधे और खच्चर में भेद कैसे कर पाएगा, इस पर भी कभी लिखें.

panditji said...

कमलजी आपकी सटीक जानकारी हेतु ढेरों ध्ान्यवाद। आपके पोस्ट को तो मैं सीध्े ही ख्ाोलता हू__ं व जानकारी बहुत उपयोगी पाता हू__ अब आप कभ्ी ख्च्चर व घ्ोडे को पहचानने के काम में आने वाले प्रमुख्ा िबन्दु बता देंगे तो इण्टरनेट की मदद से ख्ाच्चर व घ्ोडों को पहचनानना आसान हो जायेगा। जैसे हर शेयर की सेल्स,कमाई,इत्यािद के अाध्ाार पर पहचान करना आदि। उपयोगी जानकारी हेतु साध्ाुवाद

अनुनाद सिंह said...

जानकारी अच्छी लगी।