adsense

October 23, 2007

ज्‍योति स्‍ट्रक्‍चर्स में बड़ी संभावनाएं पैसे की


बिजली ट्रांसमिशन और डिस्‍ट्रीब्‍यूशन से जुड़ी कंपनी ज्‍योति स्‍ट्रक्‍चर्स लिमिटेड मध्‍यम से लंबी अवधि के निवेशकों के पोर्टफोलियो में होना जरुरी है। कंपनी की हाजिरी ट्रांसमिशन लाइन वैल्‍यू चैन की पूरी श्रृंखला में है। इसके नाशिक और रायपुर में दो टावर उत्‍पादन संयंत्र हैं जिनकी कुल क्षमता 96 हजार टन सालाना है। कंपनी की महाराष्‍ट्र के ईगतपुरी में परीक्षण सुविधाएं हैं। कंपनी ने गल्‍फ इनवेस्‍टमेंट कार्पोरेशन के साथ संयुक्‍त उद्यम स्‍थापित किया है जो खाड़ी क्षेत्र में कारोबार संभावनाएं तलाश करेगा। इस संयुक्‍त उद्यम की ट्रांसमिशन टावर उत्‍पादन क्षमता 33 हजार टन सालाना है।

बिजली क्षेत्र के बढ़ते विकास से यह तय है कि आने वाले समय में ट्रांसमिशन परियोजना कारोबार में बढ़ोतरी होगी और इसका बड़ा लाभ ज्‍योति स्‍ट्रक्‍चर्स को होगा। कंपनी का ईपीसी खिलाडि़यों के साथ सहयोग भी इसकी आय में बढ़ोतरी करेगा। ज्‍योति स्‍ट्रक्‍चर्स की वर्ष 2008 में शुद्ध बिक्री 1360.4 करोड़ रूपए रहने का अनुमान है जो वर्ष 2007 में 971.6 करोड़ रूपए थी। शुद्ध लाभ भी 55 करोड़ रूपए से बढ़कर 77 करोड़ रूपए पहुंचने की संभावना है। प्रति शेयर आय यानी ईपीएस 6.72 रुपए से 9.5 रुपए पहुंच जाने की उम्‍मीद है। कंपनी की इक्विटी 16.10 करोड़ रूपए है जिसमें प्रमोटरों का हिस्‍सा 27.14 फीसदी है, जबकि म्‍युच्‍यूअल फंडों के पास 16.20 फीसदी हिस्‍सा है। विदेशी संस्‍थागत निवेशकों के पास इस कंपनी के 33.29 फीसदी शेयर है। कार्पोरेट बॉडीज के पास 10.58 और आम जनता व अन्‍य के पास 12.79 फीसदी स्‍टॉक हैं। ज्‍योति स्‍ट्रक्‍चर्स का शेयर इस समय 244 रुपए प्रति शेयर पर उपलब्‍ध है। जो पिछले 52 सप्‍ताह में ऊपर में 287 रुपए और नीचे में 86 रुपए पर मिल रहा था।

No comments: