adsense

January 04, 2008

क्‍या बात है, वाह मनी ! की

कुछ बातें किताबों में लिखी जाती हैं और कुछ जीवन का यथार्थ होता है। जीवन का यथार्थ, जो आदर्श से नहीं, मनी से संचालित है। आज हम एक ऐसे ब्‍लॉग के बारे में बात करने वाले हैं, जो जीवन की इसी मुख्‍य धुरी पर के बारे में बात करता है। वाह मनी ! आपको मनी के महत्‍व और उसे ठीक तरीके से सुनियोजित करना सिखाता है। पूरी ब्‍लॉग चर्चा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

1 comment:

संजय बेंगाणी said...

यहाँ लिंक तो पहले ही क्लिका दिये है.