adsense

January 06, 2008

जिंदल सॉ में पैसे के अपार मौके

jindal देश की सबसे बड़ी पाइप निर्माता कंपनी जिंदल सॉ को हाल में 25 करोड़ डॉलर के ऑर्डर मिले हैं। इन ऑर्डर के बाद कंपनी के पास लगभग 85 करोड़ डॉलर के ऑर्डर हैं। इन ऑर्डरों को जनवरी 2009 तक पूरा करना है। 31 दिसंबर 2007 को समाप्‍त तिमाही में कंपनी को की शुद्ध बिक्री में  सवा चार फीसदी की गिरावट आने की आशंका है। कंपनी की अमरीकी डिवीजन ने अक्‍टूबर से ही कार्य करना शुरू किया है। लेकिन इस तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 19 फीसदी बढ़कर 71.7 करोड़ रुपए पहुंच जाने की उम्‍मीद है।

एक्‍सप्‍लोरेशन और प्रॉडक्‍शन गतिविधियों का जोर होने से समूची दुनिया के पाइप निर्माताओं के पास बेहतर ऑर्डर स्थिति है। जिंदल सॉ भारत में सबसे बड़ी पाइप निर्माता कंपनी है और उसके सामने इस मौके का भरपूर लाभ उठाने का अवसर है। कंपनी को हाल में जो 25 करोड़ डॉलर का आर्डर मिला है वह मध्‍य पूर्व देशों से मिला है।

जिंदल सॉ में प्रमोटरों की हिस्‍सेदारी 43 फीसदी है, जबकि विदेशी संस्‍थागत निवेशकों के पास 13 फीसदी, संस्‍थागत निवेशकों के पास 18 फीसदी और आम जनता व अन्‍य के पास 26 फीसदी शेयर हैं। पिछले 52 सप्‍ताह में इस कंपनी का शेयर नीचे में 358 रुपए था और ऊपर में 1208 रुपए। इस समय 1178 रुपए के करीब इसमें निवेश किया जा सकता है। निकट भविष्‍य में जिंदल सॉ का शेयर 1325 रुपए तक जा सकता है। वित्‍त वर्ष 2008 में कंपनी की शुद्ध बिक्री 4011 करोड़ रुपए रहने की उम्‍मीद है जो वित्‍त वर्ष 2009 में 5503 करोड़ रुपए पहुंच जाने की उम्‍मीद है। इसी तरह वर्ष 2008 में शुद्ध लाभ 303 करोड़ रुपए और वर्ष 2009 में 510 करोड़ रुपए पहुंच जाने की उम्‍मीद है। वार्षिक आधार पर प्रति शेयर आय यानी ईपीएस वर्ष 2008 में 54 रुपए और वर्ष 2009 में 91 रुपए पहुंचने की उम्‍मीद है। इस कंपनी में किया गया निवेश अच्‍छा रिटर्न देगा।

1 comment:

hfg said...

aap kaise hai manywar . aapke bare me mujhe bloggeers se pts chala hai ki aap apna khali smay yha bitate hain