adsense

January 23, 2008

खेल खत्‍म पैसा हजम यानी एचएफसीएल

hfcl दुनिया में जब तक लालची जिंदा है, समझदार भूखे नहीं मरेंगे। शेयर बाजार में दो रुपए के बीस रुपए बनाने के लालच में लोगों ने घटिया कंपनियों के शेयर खरीदे और पछता रहे हैं। वाह मनी हमेशा से कहता आया है कि बेहतर नतीजों, उम्‍दा प्रबंधन और शानदार लाभांश देने वाली कंपनियों में ही निवेश करना चाहिए। मंदी हो या तेजी बेहतर कंपनियां ही फायदेमंद रहती हैं। कहावत है महंगा रोए एक बार, सस्‍ता रोए बार बार। शेयर बाजार में ऐसी अनेक कंपनियां हैं जो किसी भी हिसाब यानी नतीजों, प्रबंधन से उम्‍दा नहीं है लेकिन उनके शेयर बढ़े जा रहे हैं, लोग निवेश पर निवेश किए जा रहे हैं कि वे एक दिन करोड़पति बन जाएंगे। इन कंपनियों के बारे में बाजार में ऐसी ऐसी सूचनाएं फैलाई जाती है कि आम निवेशक तो यह समझ ही नहीं पाता कि यह खबर है या मक्‍कारी।

शेयर बाजार में एक समय अपना डंका बजवा चुकी हिमाचल फ्युच्‍युरिस्टिक कम्‍युनिकेशंस लिमिटेड यानी एचएफसीएल अब भी निवेशकों के बीच नई नई खबरों के साथ छाई हुई है। कभी इसमें खबर आती है कि इस कंपनी को अनिल या मुकेश अंबानी में से कोई खरीद लेगा, इस कंपनी के पास चेन्‍नई में 1200 करोड़ की जमीन है जिसे यह बेचेगी और मालदार बन जाएगी जिसका लाभ निवेशकों को भी होगा। कभी यह बात आती है कि एचएफसीएल तो अपने पोर्टफोलियो में जरुर रखना क्‍योंकि फ्यूचर एंड ऑप्‍शन की जो अगली लिस्‍ट आएगी उसमें यह शामिल है और जल्‍दी ही सौ रुपए का भाव हो जाएगा। लेकिन इसके एफएंडओ लिस्‍ट में आने के बारे में तो कुछ नहीं कहा जा सकता लेकिन पहली दो खबरें गलत हैं।

सात साल पहले इस कंपनी में जो खेल हुआ वही खेल इस बार भी खेला जा रहा है ताकि अधिक से अधिक निवेशक फंस जाएं। कितने निवेशक यह जानते हैं कि इस कंपनी के प्रमोटर नाहटा और मालू अपनी शेयरधारिता खुले बाजार में बेच चुके हैं और अब इस कंपनी में आम जनता की हिस्‍सेदारी 97.82 फीसदी पहुंच गई है। यानी प्रमोटरों की शेयर होल्डिंग जीरो। अब आप खुद सोचिएं इस कंपनी को चलाने में प्रमोटरों की कितनी रुचि है। जब इस कंपनी में प्रमोटरों की शेयर होल्डिंग ही नहीं है तो वे इसमें कर क्‍या रहे हैं। एचएफसीएल में अनेक कहानियां आ चुकी हैं एवं आएंगी जो इसके शेयर को चलाने के लिए प्‍लांटेड की जा रही हैं। निवेशक यदि अपनी खैरियत चाहते हैं तो एचएफसीएल से जितना जल्‍दी हो बाहर निकल जाएं। या अभी भी आप जमीन की कहानी या अंबानी बंधुओं के नाम पर इसमें अपना निवेश बनाएं रखना चाहिए। एचएफसीएल का शेयर आज 34.70 रुपए पर बंद हुआ जो पिछले 52 सप्‍ताह में ऊपर में 62.60 रुपए और नीचे में 16.90 रुपए था। एचएफसीएल की तकनीकी रिपोर्ट के लिए यहां क्लिक करें।

4 comments:

राजीव जैन Rajeev Jain said...

जानकारी के लिए शुक्रिया

अनिल पाण्डेय said...

share bazar yani karm kar fal kee chinta mat kar. chahe fal mile ya na mile. ya fir sada hua fal mile.
jo mile kismat samajhkar le lo.

अविनाश वाचस्पति said...

चलो इस ढोल की भी खुल गई पोल
कमल बोलो ज़ल्दी से और भी तोलो

संजय बेंगाणी said...

शुक्रिया.