adsense

August 03, 2009

दलाल स्‍ट्रीट में नई ऊंचाई पर जरुर करें प्रॉफिट बुक

दलाल स्‍ट्रीट ने सावन के इस अहम महीने में इस साल की ऊंचाई को छू लिया है और सेंसेक्‍स ने 15670 अंक तक का सफर तय कर लिया है। शेयर बाजार की मौजूदा स्थिति में इस सेंसेक्‍स के 16500 से 17000 अंक तक पहुंचने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता लेकिन समझदार निवेशक हर ऊंचाई पर आंशिक मुनाफावसूली कर रहे हैं। पिछले सबक से कई निवेशकों ने यह सीखा है लेकिन अधिक लालची निवेशकों के लिए कोई भी सबक काम नहीं आता। कहावत है पेड़ चाहे कितना लंबा हो जाए, लेकिन वह आकाश को छू नहीं सकता।

वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था के रिकवर होने की खबरों ने दुनिया भर के शेयर बाजारों खासकर उभरते शेयर बाजारों को सबसे पहले आसमान की ओर बढ़ाया है लेकिन अर्थव्‍यवस्‍था के मोर्चे पर अभी भी कोई यह पूरे दावे के साथ नहीं कह सकता कि हम मंदी से उबर रहे हैं। सब कुछ कयास पर है। अमरीका में ताजा ताजा पांच और बैंकों के दरवाजे हमेशा के लिए बंद हो गए हैं। इन बैंकों को मिलाकर इस साल अमरीका में 69 बैंक बंद हो चुके हैं। पिछले सप्‍ताह ही हमने देखा कि चीन की एक हलचल ने बाजारों को तारे दिखा दिए। इसलिए अभी यह दावे के साथ कहना कि हां, मंदी खत्‍म हो रही है, गलत होगा।

घरेलू मोर्चे पर बेहतर कार्पोरेट नतीजों के साथ अगले कुछ दिनों में नई सरकारी घोषणाएं शेयर बाजार को और ऊंचाई की ओर ले जाएंगी। 30 जून को समाप्‍त तिमाही के लिए 80 फीसदी भारतीय कंपनियों ने बेहद शानदार नतीजे घोषित किए हैं। 1792 कंपनियों का शुद्ध मुनाफा 23 फीसदी बढ़कर 69263 करोड़ रुपए पहुंच गया है। काफी कठिन समय में भारतीय कंपनियों ने इतने शानदार नतीजे पेश किए है। जब अर्थव्‍यवस्‍था में बड़ा सुधार आएगा और मंदी के बादल छटेंगे तो हमारी आर्थिक विकास दर 8.5 से 9 फीसदी आसानी से पहुंच सकती है। यही वजह है कि विदेशी संस्‍थागत निवेशकों ने पिछले सात महीनों में भारतीय शेयर बाजार में 34200 करोड़ रुपए का निवेश किया है। इस राशि में से अकेले दस हजार करोड़ रुपए बीते महीने जुलाई में निवेश किए गए।

इस बीच, अदानी पावर के आईपीओ को मिली अच्‍छी सफलता के बाद सरकारी कंपनी एनएचपीसी का आईपीओ आ रहा है। इस आईपीओ के साथ सरकार भी प्राइमरी शेयर बाजार में अपनी शुरुआत करने जा रही है और यह सफर आने वाले दिनों में जारी रहेगा। म्‍युचुअल फंड की बात करें तो ये फंड ढेर सारी इक्विटी योजनाओं के साथ बाजार में हैं। इंडिया इक्विटी फंड ने बीते सप्‍ताह के आखिर में 21.10 करोड़ डॉलर जुटाकर इंडिया ग्रोथ स्‍टोरी में निवेशकों के विश्‍वास को बढ़ाया है।

जेएम फाइनेंशियल के प्रबंध निदेशक विशाल कम्‍पानी का कहना है कि बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज का सेंसेक्‍स अगले दो साल में 25 हजार के अंक को पार कर जाएगा। वे अपने पिता निमेष कम्‍पानी की बात को दोहराते हुए कहते हैं कि भारतीय शेयर बाजार बड़ी तेजी में हैं और घरेलू स्थिति काफी मजबूत है। वे कहते हैं कि कार्पोरेट घरानों को अपने विकास के लिए अगले तीन से पांच साल में पूंजी जुटानी होगी।

3 अगस्‍त से शुरु हो रहे नए सप्‍ताह में बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्‍स 16061 के ऊपर बंद होने पर 16311 तक जाने की संभावना है। इसे सपोर्ट 15111 अंक पर मिलेगा। जबकि, नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज (एनएसई) के निफ्टी को 4511 पर सपोर्ट मिलेगा। यह 4761 आने पर 4811 जा सकती है।

मंगल केशव के इंस्‍टीटूयशनल इक्विटी एवं रिसर्च हैड के सह मुखिया अमित खुराना कहते हैं कि अगस्‍त महीने में निफ्टी के 4800-5000 अंक के बीच पहुंचने से इनकार नहीं किया जा सकता। तरलता सभी सैक्‍टरों को सहायता कर रही है। अगले कुछ सप्‍ताह तक बाजार में सकारात्‍मक समाचारों का प्रवाह बने रहने की उम्‍मीद है। खासकर नीतिगत मामलों पर सरकार की ओर से कई अहम घोषणाएं सुनने को मिल सकती हैं।

सूरत कॉमर्शियल कार्पोरेशन, सूरत के इक्विटी विश्‍लेषक गोपाली मोदी का कहना है कि 3 अगस्‍त से शुरु हो रहे सप्‍ताह में सेंसेक्‍स जब तक 15467 के ऊपर बंद होता है तब तक कोई चिंता की बात नहीं लेकिन 15467 के नीचे बंद होने के साथ सभी चिंताएं, नकारात्‍मक कारक उठ खड़े होंगे। ऐसे में तेजी के कारोबार के लिए 15467 का कड़ा स्‍टॉप लॉस रखें। 15467 के ऊपर सेंसेक्‍स के रहने पर इसे 15952 और 16075 के पास रेसीसटेंस मिलेगा। इस स्‍तर को पार करने पर यह 16274 से 16427 अंक देखने को मिल सकता है। लेकिन 16000 के ऊपर सेंसेक्‍स के पहुंचने पर स्‍टॉप लॉस के स्‍तर में भी बढ़ोतरी करनी होगी जो 15667 होगा। इस स्‍तर के नीचे सेंसेक्‍स के बंद होने पर तेजी के कारोबार से दूर रहना फायदेमंद होगा क्‍योंकि ऊपर बताए गए स्‍टॉप लॉस के टूटने पर पहले 14642 का स्‍तर देखने को मिलेगा और इसके बाद चरणबद्ध गिरावट में यह 12850 से 11632 तक संभव है। हमारी सलाह है कि निवेशक तेजी के कारोबार में मिलने वाले मुनाफे को गांठ बांधें और घाटे की निकासी भी तेजी से करें जो पूंजी की सुरक्षा के लिए अत्‍यंत जरुरी है।

निवेशक इस सप्‍ताह सुप्रजीत इंजीनियरिंग, पेट्रोनट एलएनजी, पीटीसी इंडिया, आईडीबीआई बैंक, नैवेली लिग्‍नाइट, रेन कमोडिटीज, आइडिया सेलुलर, गोदरेज कंज्‍यूमर, आईटीसी, व्‍हर्लपूल ऑफ इंडिया, टोरेंट पावर, अंसल इंफ्रा के शेयरों पर ध्‍यान दे सकते हैं।