adsense

July 20, 2014

सोने-चांदी में लेवाली से पहले करें गिरावट का इंतजार

घरेलू एवं विदेशी बाजारों में सोने-चांदी की कीमतों में पिछले सप्ताह काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिला। कमोडिटी एक्सचेंज एमसीएक्स में अगस्त वायदा सोना 363 रुपए (1.28 फीसदी ) की साप्ताहिक गिरावट के साथ 27993 रुपए प्रति दसग्राम पर बंद हुआ । वहींचांदी सितंबर वायदा 1137 रुपए (2.47 फीसदी ) की साप्ताहिक गिरावट के साथ 44931 रुपए प्रति किलोग्राम पर बंद हुई ।

स्थानीय स्पॉट मार्केट में शनिवार को 24 कैरेट सोना 28640  रुपए प्रति दस ग्राम और चांदी 45524 रुपए प्रति किलो ग्राम पर कारोबार कर रही थी। अंतरराष्‍ट्रीय  बाजार में शुक्रवार को सोना 1310.40  डॉलर औंस एवं चांदी 20.84 डालर औंस के स्तर पर बंद हुई।

फंडामेंटल : अंतरराष्‍ट्रीय खबरों की वजह से पिछले सप्ताह सोने-चांदी की कीमतों में काफी उतार-चढ़ाव का माहौल रहा और यह इस सप्ताह में भी जारी रह सकता है  पिछले सप्ताह गुरुवार को मलेशियन विमान पर यूक्रेन की सीमा पर हमला और गाजा में इजरायली हमले की खबरों के कारण सोने-चांदी की कीमतों उछाल देखने को मिला  गुरुवार को सोने में 523 रुपए और चांदी में 1002 रूपए की बढ़त दर्ज की गई  लेकिन सोमवार, मंगलवार और शुक्रवार की गिरावट के कारण दोनों साप्ताहिक गिरावट के साथ ही बंद हुए  यूक्रेन और इराकी संकट ने इस साल निवेशकों को सोने- चांदी में खरीदारी करने के लिए प्रोत्साहित किया है और अभी यह शार्ट टर्म के लिए जारी रहेगी 

टेक्निकल: स्‍वस्तिक इनवेस्‍टमार्ट, इंदौर के कमोडिटी विश्‍लेषक अमित खरे का कहना है कि एमसीएक्स पर अगस्त वायदा सोने के प्रमुख रेजिस्टेंस 28200-28610-28810 रुपए हैं । वहीं 27500-27350- 27100 रुपए के निचले स्तर महत्वपूर्ण सपोर्ट हैं । इसी प्रकार 45400-45870-46720 रुपए के ऊपरी स्तर जुलाई वायदा चांदी के रेजिस्टेंस हैं । दूसरी तरफ 44300-43900-43350 रुपए के निचले स्तर चांदी के लिए महत्वपूर्ण सपोर्ट का काम करेंगे | चार्ट पर सोना-चांदी काफी मजबूती दिखा रहे हैं  इसलिए निवेशकों को गिरावट पर खरीदारी की रणनीति अपनानी चाहिए  सोने में 27700-27600 रुपए और चांदी में 44600-44500 रूपए के स्‍तर पर खरीदारी की जा सकती है 

इस सप्ताह के मुख्य घटक : इस सप्ताह आने वाले अमरीका के महत्वपूर्ण आर्थिक आंकड़ों में मंगलवार को एक्जिस्टिंग होम सेल्स और गुरुवार के अनएम्प्लॉयमेंट क्लैम और न्यू होम सेल्स के आंकड़ों का भी निवेशकों को ध्यान रखना चाहिए  


No comments: